Diwali Puja Vidhi in Hindi

Diwali Puja Vidhi

दिपावली पूजा विधि

दिपावली का त्यौहार हिंदूओं का प्रमुख त्यौहार है। इस त्यौहार को बहुत ही धूमधाम के साथ मनाया जाता है। इस दिन प्रत्येक व्यक्ति अपने व्यवसायिक स्थान और घर पर भगवान गणेश तथा माँ लक्ष्मी की विधिपूर्वक पूजा करते है।

जिससे धन की देवी माँ लक्ष्मी और गणेशजी से सुख-समृद्धि, घर की शांति और बुद्धि की कामना करते है।

Diwali Puja Vidhi

Diwali Puja Vidhi

दिवाली और लक्ष्मी पूजा सम्पूर्ण विधि

  • दिवाली के दिन, घर में संध्या के समय पूजा के लिए लक्ष्मी और गणेश जी की नई मूर्तियों को एक चौकी पर स्वास्तिक बनाकर और चावल रखकर स्थापित करना चाहिए। ध्यान रहें कि उनका मुख पूर्व या पश्चिम दिशा की ओर रहें।
  • मूर्तियों के सामने एक जल से भरा हुआ कलश रखना चाहिए। जिसमें एक सुपारी, थोडे से फूल, कुछ चावल के दाने और एक सिक्का डाल दे। फिर उस कलश पर स्वास्तिक बनाएं ।
  • इसके बाद मूर्तियों के सामने बैठे और हाथ में जल लेकर शुद्धि मंत्र का उच्चारण करते हुए उसे मूर्ति, परिवार के सदस्यों पर और घर में छिड़कना चाहिए। 
  • इसके बाद फल, फूल, मिठाई, खील, बताशे, फूलों की माला आदि सामग्रियों का प्रयोग करते हुए पूरे विधि-विधान से माँ लक्ष्मी और गणेशजी की पूजा करनी चाहिए।
  • पूजा करते वक्त आपको उत्तर या पूर्व दिशा की ओर मुंह करके बैठना चाहिए। इसके बाद माँ लक्ष्मी और भगवान गणेश की मूर्ति के सामने 11 छोटे दिये तथा एक बड़ा दिया जलाने के साथ मोमबतियों को भी जलाना चाहिए। 
  • सभी छोटे दिये को घर की चौखट, खिड़कियों और छतों पर जलाकर रखना चाहिए तथा बड़े दीपक को रात भर जलता हुआ, पूजा घर में रखना चाहिए। 
  • दिवाली के दिन धन, समृद्धि और वैभव के लिए माँ लक्ष्मी और गणेशजी की सच्चे दिल से उपासना करनी चाहिए।

दिवाली पूजा, लक्ष्मी पूजा या पूजा सामग्री से सम्बंधित किसी भी जानकारी के लिए संपर्क करें:

by diwalipujanroot